Saturday, 25 March 2017

अथ मेलाघुमनी कथा [कहानी]

esyk?kqeuh ,d L=h dk uke FkkA bl ckr ls gj ds yksx pkSd ldrs gSa ]ij xkWao dLCks ls tqMs+ yksx ugha ]tgkWa लड़कों ds ?kqj ]drokरू ]udNsnh vkSj yM+fdयों ds eqjfr;k] rsrjh] yxuh] esyk?kqeuh tSls uke vke gksrs gSaA dl;k dLcs esa lh/kh jksM ij djegk eksgYyk gS] tks rhu xfy;ksa esa cWaVk gSaA igyh xyh esa fgUnw] nwljh xyh esa eqfLye vkSj rhljh esa nfyr tkfr ds yksx jgrs gSaA rhनों xfy;kWa vius vki esa iwjk eksgYyk gSaA igyh xyh ,d NksVh iqfy;k ls शु# gksrh gSa] ftlds eqgkus ij gh esyk?kqeuh dh pk; ]iku dh nqdku gS vkSj dksbZ ipkl QykZax dh nwjh ij mldk dPpk ?kjA nhवाjas bZV vkSj feV~Vh dh cuha o Nr Qwl dhA mlds ?kj ds pkj -ikWap ?kj ds ckn gh esjk ?kj FkkA lkWaaoyh]FkksMh+ eksVh] e/;e dn dh esyk?kqeuh iwjs eksgYys dk vkतंक FkhA eSa cpiu ls gh mls bl #i esa ns[k jgh FkhA 
esyk?kqeuh]ftldk vlyh uke jkedyh Fkk]fdlh ls ugha Mjrh FkhA yksx mls ihB ihNs enZekj dgrsA og /kM+Yys ls enksZ okyh xkfy;kWa fn;k djrh FkhA ekaW crkrh gS] शु# esa og ,slh u FkhA gkykr us mls ,slk cuk fn;kA tc og bl eksgYys esa cgw cudj vkbZ Fkh] cM+h gh lh/kh vkSj lyTt FkhA
mldk ifr ,d Bkdqj lkgc dh vkjk eशीu esa dke djrk FkkA ,d ikWao [kjkc Fkk]ykBh ds lgkjs pyrk FkkA ,d fnu mlus esyk?kqeuh dks vius ekfyd ds lkFk dejs esa can dj fn;k vkSj [kqn ckgj pkSdhnkjh djrk jgkA esyk?kqeuh Pkh[kh fpYykbZ jksbZ ij mldk ou pykA og ywV yh xbZaA ml fnu ds ckn mlds fy, ifr vkSj dqrs esa dksbZ फर्क ugha jgkA
nl eghus ckn mldks ,d iq=h iSnk gqbZ] ftldk uke jejfr;k j[kk x;kA lc yksx nch tqcku esa dgrs Fks fd og Bkdqj lkgc dh gh lUrku FkhA jejfr;k tc rhu oर्ष dh gqbZ rHkh esyk?kqeuh ds ifr dh e`R;q gks xbZ vkSj eksgYys okलों ds Cnksa esa esyk?kqeuh NqVVk [ksyus &[kkus yxhA mlus rc rd pk;&iku dh nqdku [kksy yh Fkh vkSj ml ij cSBus yxh FkhA 
b/kj jejfr;k rsth ls c<+ jgh FkhA dHkh- dHkh cPpksa dks ysdj esyk?kqeuh vkSj eksgYys dh vkSjrksa ds chp Bu tkrh]rks enZ yksx fudy vkrs]esyk?kqeuh dks xkfy;kaW nsrs] dHkh &dHkh gkFk  pyk nsrsA cspkjh jksrh fpYykrh xfj;krh ij dksbZ mlds i{k esa [kM+k u gksrkA enZ yksx mlls blfy, Hkh fp<+rs Fks fd og mUgsa ?kkl ugha Mkyrh FkhA ,dk/k yksxksa us jkr esa tc mldh >ksaiM+h esa ?kqlus dh dksशिश dh] rks mlus ksj epkdj mudh bTtr mrkj nh FkhA lc dqN [kksdj esyk?kqeuh cny jgh Fkh vkSj ,d fnu iwjh rjg cny xbZ AenksZ ls fuiVus dk mlus ,d uk;kc rjhdk <wWa< fudkykA vc tc dksbzZZ enZ mls eaaaakjus ds fy, vkxs c<+rk] og viuh lkM+h flj rd mBk ysrh vkSj iwjh rjg uaxh gks tkrhA gk; &gk; dgrs gq, igys vkSjrsa vkSj fQj enZ ?kj ds vUnj Hkkx tkrsA fdlh dh fgEEkr mlls my>us dh u gskrhA ekWa dgrh] uaxksa (ftldks viuh bTtr dh ijokg ugha gksrh ]ls Hkxoku Hkh Mjrk gSA
vHkh dqN fnu igys tc fczVuh स्पीयर्स us vius xqIrkaxksa dk प्रदर्शन djrs gq, QksVks f[kapokbzZ] rks eq>s esyk?kqeuh dh ;kn vk xbZA ftlus rhl oर्ष igys gh bl uaxbZ dk lgkjk fy;k FkkA L=h }kjk yTtk dk ;g iznर्शu iq:षो ds eqWag ij rekpk ekjus tSlk gS fd yks ns[kks blh ds fy, rks lkjs >a>V gSa] blh ds ukrs rks vcyk gSa L=h ! blh dks ikus -ywVus ds fy, rks ukuk midze djrs gksA ;gh rks gS yTtk] uSfrdrk] ifo=rk] ftlds fy, izrkfM+r djrs gks L=h dksAvc Hkyk iq# ;g dSls cnkZश्त djs fd L=h lcds lkeus uaxh gks tk,A mls rks vdsys esa uaxh L=h ns[kuk Hkkrk gSA dSls lgs og fd L=h vius -vki uXu gsk tk,A iq#ष  tc Lo;a L=h dk oL= gj.k djrk gS] rHkh xkSjo eglwl djrk gSA vc vxj nzkSinh Hkjs njckj esa Lo;a lkMa+h mrkj nsrh rks] D;k og dqy yyuk jg tkrh\ j{k.kh; jg tkrh\rekशा ns[kus okyksa dks Hkh Hkyk D;k jksekap vkrk\ rc rks dkelwdh og xf.kdk gks tkrh]tks Hkjs njckj esa ;g dgrh gqbZ uaxh vk tkrh gS fd mls bl jkT; esa dksbZ iq: gh ugha fnjork]ftlls og yTtk djsA
vkt Hkh tks Msl dksM ykxw djrs gSa] rFkk nsg -m?kkM+w diM+ksa] QSशu vkSj lkSUn;Z izfr;ksfxrkvksa ds fojks/kh gSa] muds dEI;wVjksa esa uXu L=h nsg euksjtau ds fy, dSn gSA dFkuh vkSj djuh dk ;gh vUrj rks enksZ dh lcls cM+h foशेषता gSA
lcls cM+h ckr rks ;g gS fd vc rd iq#’k gh vius xqIrkaxksa ij brjkrk jgk gS] L=h dks tyhy djus ds fy, mldk iznर्शdjrk jgk gS vkSj vc L=h HkhAij esyk?kqeuh vkt dh L=h ugha FkhA L=h foeर्श rks nwj mls v{kj Kku Hkh u Fkk] u gh mlus fczVuh dh rjg nsg dks gfFk;kj gh cuk;k FkkA gkaW mlus vius bl iznर्शu ls iwjs eksgYys dks ijkLr t#j dj fn;k FkkA vc dksbZ Hkh mlds eqaWg yxus ls Mjrk FkkA og lhuk rkus ft/kj pkgs xqtjrhA dHkh-dHkh gn ls ckgj Hkh pyh tkrh]ij lc mls uaxh vkSjr dgdj nkeu cpkrsA ekaW dgrh xUnh ukyh esa iRFkj Qsadus ls vius gh mij NhaVk iM+rk gSA ij esyk?kqeuh ,sls gh thrh jghA  
vc jejfr;k dh dFkk lqfu,A jejfr;k eq>ls ,d nks oर्ष cMh+ FkhA esjs lkFk gh og uxjikfydk ds Ldwy esa d{kk ikWap rd i<+rh jghA eq>s og fofp= blfy, yxrh Fkh]D;ksafd mldh knh gks pqdh Fkh vkSj Qzkd]LdVZ ds txg lyokj leht ;k lkM+h igurh FkhA xkWao dh ,d :<+ ekU;rk ds vuqlkj jtLoyk ls iqoZ yM+dh की शाnh ls gh tkWa?k ifo= gksrk gSA esyk?kqeuh us Hkh vkB oर्ष dh mez esa dU;knku dj ekuks vius fy, LoxZ esa txg vkjf{kr djk yh FkhA jejfr;k vDlj esjs ?kj vkrh vkSj gljr ls esjs ?kj] diM+ksa vkSj lqfo/kkvksa dks ns[krh]yEch lkWal HkjrhA og vPNk xkrh vkSj ukprh FkhA mldk fiz; xkuk Fkk &cuk ds D;wWa fcxkM+k js] fcxkM+k js ulhck]mij okys] mij okysAog bl xhr dks bl Hkkoiw.kZ eqnzk esa xkrh fd eSa mldks ns[krh jg tkrhA ekWax esa pVd ihyk flUnwj]cM+h lh yky fcUnh]nsg ij lyokj leht]lkWaoyh lyksuh jejfr;k dh vkWaखों esa <sj lkjs lius FksA dHkh -dHkh og eq>ls viuk eu [kksyrh  eSa rqEgkjs tSlh cuuk pkgrh gwWa][kwc i<+uk pkgrh gwWaAml le; eq>s mldh ckr le> esa ugha vkrh FkhA NBoha d{kk ls esjk mldk lkFk NwV x;kA esjk ,Mfeu yM+कों ds dkWyst djk;k x;k]tcfd jejfr;k dU;k dkWyst esa xbZA esyk?kqeuh us iwjs eksgYys esa शोर epk;k fd yM+dksa ds lkFk i<+us ls yM+fd;kWa fcxM+ tkrh gSaA esjh ekWa dks cgqr cqjk yxk] ij esyk?kqeuh ds eqWag yxuk mUgksaus Bhd ugha le>kA
le; rsth ls chr jgk Fkk A tc jejfr;k uoha d{kk esa igqaWph ]rsk iMks+l ds gh पंfM+r th dh csVh jek (tks mlds lkFk i<+rh Fkh ds lkFk एक usikyh ckyk ds cgdkos esa vkdj fgjskbu cuus ds fy, Hkkx xbZ]ij nwljs gh fnu jejfr;k rks okil vk xbZ ij jek ughaA पंfM+r th us esyk?kqeuh vkSj jejfr;k dks idM+k rks jefr;k us jgL; crk;kA dkj esa mls ysdj पंfMr th ml fBdkus ij igqaWps] tgkWa दोनोंjkr esa Bgjh Fkha] irk pyk jek usikyh ,atsV ds lkFk ckWEcs okyh xkM+h esa cSB pqdh gSA nkSM+rs -Hkkxrs cM+h eqfश्कy ls iq#’k os’k/kkjh jek pyrh ट्रszu ls ekj ihVकर जबरन mrkjh xbZ vkSj ogha ls vius iqश्rSuh ?kj dqcsjukFk ys tkbZ xbZ] tgkWa mlus gkbZLdwy dh ijh{kk izkbosV Nk=k ds #i esa ikl dh vkSj fQj mldh शknh gks xbZA fdlh dks dkuks dku [kcj Hkh ugha gqbZA vehj vkSj ऊँph tkfr dh yM+dh gksus dk mls ykHk feyk] ij jejfr;k rks xjhc vkSj NksVh tkfr dh Fkh]ml ij cnuke ekaW dh csVhA vc mlds thou dk dkyk v/;k; [kqy x;kA bl cnukeh ds ckn mldh Ik<k+bZ NwV xbZAmldh ekaW us mldk xkSuk r; dj fn;k] rks og HkM+d xbZ &xWaokj ifr ds lkFk ugha tkऊँxh] ogkaW xkaWo esa xkscj ikFkuk iMs+xkAekjus ihVus ij Hkh og Vl ls el ugha gqbZA gkjdj esyk?kqeuh pqi gks xbZA
jejfr;k dh ;qok gksrh nsg ij enksZ dh utj iM+us yxh Fkh] ij og gRFks p<h+ vkjk eशीu okys Bkdqj lkgc ds ghA vc blesa fdruk esyk?kqeuh dk gkFk Fkk ;g ogh tkusA jejfr;k ds lkjs lius VwV x;s FksA mls vc dksbZ jhQ ?kj Lohdkj ugha djrk FkkA blh chp eSa i<+us ds fy, ckgj pyh xbZA xsztq,u ds ckn tc ykSVh] rks irk pyk jefjr;k ej xbZ gSA eq>s /kDdk yxk ekaW us crk;k & fdlh fookfgr eqlyeku iq# ds lkFk jgus yxh FkhA ,d csVh Hkh gqbZ]ij tkus dSसे ,d jkr f<cjh ls vkx yxh vkSj cqjh rjg tydj ej xbZA yksxksa dk dguk Fkk] eqlyeku yM+ds us gh tyk fn;k]ij dgha dksbZ dkjZokbZ ugha gqbZA cPph dks esyk?kqeuh mBk ykbZ vkSj tkus D;ksa mldks esjk uke fn;k &मंजू  A

esyk?kqeuh eatw dks cMs+ uktksa ls iky jgh FkhA vDlj tc esjs ?kj dk dksbZ lnL; m/kj ls xqtjrk rks og tksj ls ml cPph dk uke ysdj iqdkjrhA esjs ?kj okyksa dks cgqr cqjk yxrk A ;g lc esyk?kqeuh fp<kus ds fy, djrh gS ;k eq>esa jejfr;k dh Nfo nsjorh gS ;k esjh i<kdw izo`fRr ls izHkkfor gksdj ,slk djrh gS bZश्वj tkusA ij eSa tc Hkh ?kj vkrhA viuh nqdku ij cSBh og eqLdjkrh vkSj iwNrh &dk gks cfguh] dblu ckVWawAvkSj ogkWa cSBs yksxksa dks crkus yxrh fd dSls eSa izkr% pkj cts ls gh i<+us yxrh gwWa (cpiu ls izkr% mBdj eSa laLd`r ds yksd ;kn djrh FkhA eSa dVdj jg tkrh] ij etcwj Fkh D;ksafd mlh xyh ls gksdj ?kj tkus jkLrk Fkk] ftlds eqgkus ij nqdku FkhA eatw dks jejfr;k ds ikB ls lcd ysdj fd i<us ls fcxM xbZ esyk?kqeuh us Ldwy ugha Hkstk A eSaus mldh pk; iku dh nqdku ij gh उसे iyrs &crs nsjok A tc eatw iUnzgosa oर्ष esa iहुंची rks esjs mij otzikr &lk gqvk A og dqWaokjh ekWa cuus okyh Fkh A ekWa us crk;k &dksbZ ड्राboj gS ftldh jjoSy cu xbZ gSA mQ jejfr;k ds liuksa dk ;g vUrA vxj og ftUnk gksrh rks ] eq>s igyh ckj esyk?kqeuh ls ?k`.kk gqbzZ A eatw viuh ukuh dh rjg gh cnreht o cntqcku Fkh A xoZ ls lhuk o isV rkus og eksgYys esa ?kwerh ]ij etky D;k fd dksbZ dqN dg lds A ,d fnu eq>ls Vdjk xbZ rks mlus cMh misक्षk ls eq>s nsखा tSls geuke gh ugha esjh izfr}U}h Hkh gks ij eSaus cMh gh eZ vkSj n;k ls ml iUnzg lky dh cPph dks nsjok tks esjs cpiu dh lkFkh jejfr;k dh csVh Fkh] ftldk izseh mlds firk ls Hkh vf/kd mez dk Fkk vkSj tks nwljh esyk?kqeuh cuus esa xoZ eglwl dj jgh Fkh A ?kj ySkVdj eSa QwV&QwVdj jksus yxhAesjs ns[krs&ns[krs jejfr;k ej xbZ mldh csVh ej jgh gS vkSj eSa dqN ugha dj ldrh A dc rd pysxk ;g flyflyk\ D;k dHkh esyk?kqeuh dFkk dk vUr gksxk\

 rktk lw=ksa ds vuqlkj esyk?kqeuh ugha jgh vkSj eatw us ,d csVh dks tUe fn;k gSA  

Tuesday, 21 March 2017

मैं शायर तो नहीं फिर भी

1-अहसास के सिवा जिंदगी कुछ नहीं
हम तो बस इसी धन से धनी हैं|
2-वे खुशनसीब हैं सबसे सब कुछ कह लेते हैं 
हम तो खुद से खुद को छिपाते रहे बरसों।
3-आज फिर तकिया आंसुओं से तर था
लगता है रात सपने में आया था वो
4-देह के लिए वो मन की बात करते हैं
मन ही पा लेते तो देह क्या चीज है ?
5-तितली नहीं जो मकरंद पी उड़ जाएंगे
मधुमक्खी हैं प्रेम लगन से शहद बनाएँगे |
6-हम प्यार में खुद को लुटा तो दें मगर 
प्यार के काबिल कोई इंसान तो मिले |
7-दो कदम भी जो तेरी ओर नहीं बढ़ाता
नदी तुम्हें ऐसे समंदर की प्यास क्यों ?
8-प्रेम की नदी को तैरकर निकल गए
गहरे उतरते तो मोती जरूर पाते|
9-छ्लछलाई रहती है आँखों की नदी
क्या आँखों में रहने लगा है कोई ?
10-प्यास बुझाता है पास का दरिया
दूर का समंदर है प्यास का जरिया |
11-नदी की शिकायत पर सागर बस मुस्काता है
उसे भी है नदी की प्यास खुद से भी छिपाता है।
12-पानी की प्यास उस घड़े से पूछिए
तपाया गया जिसे देर शाम तक।
13-जब मिल जाती हैं रूहें देह की क्या औकात
रहे जहां कहीं और किसी के भी साथ |
14-जिस एक में मेरी सारी दुनिया
उसके लिए मैं दुनिया में एक |
15-देह को पा लेना आसान है बहुत
रूह तक पहुँचते तो खुदा को पाते |
16=जिसने प्यार का इजहार नहीं किया
क्या उसने कभी प्यार नहीं किया ?
17-कभी गोपियाँ कभी रानियाँ रही अनेक
फिर भी कृष्ण की राधा हुई बस एक | 
18-रोकती है दुनिया रोकते हैं रीति-रिवाज भी
पर मिल जाते हैं वे सपनों में आज भी |
19-तन में मन में सांस में धड़कन में
कहाँ कहाँ बताएं जहां वह है
पर क्या करें मुकद्दर में नहीं है |
20-प्यार सोना है टूट-टूटकर भी जुड़ता है
विरह की आग में जितना तपे निखरता है |
21-ये दौलतें और शोहरतें लगेगी बेमानी
पा लोगे जो मोहब्बत की सच्ची दौलत |
22-जुस्तजू किसकी और कौन मिला मुझको 
प्यास सागर की और दरिया मिला मुझको |
23-कैसे कह दूँ कि प्यार तेरा धोखा था 
तेरी आँखों में कभी खुद को मैंने देखा था |
24-होगे मथुरा का राजा तुम, मैं भी अपने मन की रानी
देखूँ कैसे भूल तुम जाते, न भूलाने की मैंने है ठानी||
25-किसी दिन काँपते हाथों से गिर जाएगी कलम
उठाएगा कोई बच्चा औ जी उठेगी फिर मेरी कलम |
26-मिलता कोई जौहरी तो कोयला हीरा बन जाता 
चमक छिपाए अंतर में कोयला ही न रह जाता |
27-इससे पहले कि कोई राह ही ना रहे
करो कुछ ऐसा कि फासला ही ना रहे|
28-आँखें सुरीली बातें सुरीली साँसें सुरीली धड़कनें सुरीली 
सुर की नदी में सुरेले के संग मैं भी आखिर हुई सुरीली |
29-आँखों से छेड़कर सुरीला तान
|तुमने तो तन की बीन बजा दी |
30-संबंध तो न बन सका मगर  
अनुबंध को खूब जीया है मैंने |
31-ये प्यार भी कितना बेदर्द है
लौट आता है बार-बार फिर से|
32-कभी अकेले मिलो तो बताऊँ कि मर्ज क्या है
तुम भीड़ में पूछोगे तो "खैरियत" ही कहेंगे |
33-हम मिल भी पाते तो भला कैसे
उसके सपनों में आकाश था सारा
मेरे सपनों में बस चाँद सा मुखड़ा।
34-कभी कभी ये आँखें औचक भर आती हैं
शायद किसी को मेरी याद सताती है।
35-प्यार नहीं मरता है बनकर दर्द दिल में रहता है
कभी खिलाता अधरों पे फूल कभी मोती सा झरता है।
36-गुजर रही है जिंदगी किसी न किसी तरह
यादें साथ हैं किसी हमसफ़र की तरह।
37-वो जानकर भी अनजान है मुझसे
मैं अनजाने ही जान गयी हूँ उसको।

38-वो पूछते हैं मेरे प्रेम का क्या अर्थ
कैसे कहूँ प्रेम में अर्थ नहीं होता।
39-हम होते दो तो न होते एक
एक थे एक ही रह गए।
40-प्रेम का टीका जो बचपन में लगा होता 
ये मर्ज न आज इस तरह लाइलाज होता |
41-वो न मिल पाया तभी तो कशिश है
कशिश न मिटे इसी की कोशिश है।
42-वो न मिल पाया इसका क्या रोना
जिसको मिला है वो भी रो रहा है।
43-आँखें न बता दें रतजगे की बात
इसलिए होंठों ने सूरज उगा लिए हैं।
44-सामने उसके तो जी भर के मुस्कुराए
होते ही अकेले क्यों नयन भर आए?
45-दावे तो बहुत किए थे इस नादां दिल से
आज फिर लगा उसे हम न भूल पाए।
46-यूं तो खिड़कियाँ बंद करके बैठी हूँ 
फिर भी झिरियों से झांक रहा कोई।
47-ऋतुएँ बदलीं बदल गए तुम भी
बदले नहीं तो बस एक हम ही |
48-नफरत का बोलबाला है आजकल चारों ओर
प्रेम पर्व आए तो नाचे सबके मन का मोर ||
49-अब नहीं समय कि इंतज़ार करें
चलो अगली बार ही दीदार करें।
50-इजहार करके उसको खो दिया 
काश उसे मन में छिपाए रखते।
51-एक तरफ़ा भी हो तो क्या होता है प्रेम ही 
सौ में पचास पाकर क्या पास नहीं होते।
52-आंसू बन गिर जाएंगे कुछ
कुछ जाएंगे मेरे ही संग
ये दर्द जो तेरे नाम के हैं।
53-तैरना सीखे बिना नदी में उतर गए
गनीमत रही नदी ने डुबोया नहीं मुझे।
54-प्रेम मन से कहाँ दूर जाता है 
किसी को देख उमग आता है |
55-तुमने देह नहीं मेरे रूह को छुआ है  
तुम्हें क्या पता तुमने क्या किया है | 
56-खुश रहो इसलिए ये भी कर दिया 
तुम्हारे लिए तुम्हें ही दूर कर दिया |
57-दुःख की नदी को मैं हद में रखती हूँ 
उनकी जिंदगी में सैलाब आ न जाए।
58-खुद को भूलाकर बहना पड़ा मुझे
होश में रहती तो कभी की डूब जाती।
59 तेरी कमी तो रह ही गयी आखिर 
यूं तो जिंदगी ने बहुत कुछ दिया।
60-जिसके इन्तजार में ये उमर गुजार दी
वह बाहर नहीं मिला भीतर ही मिल गया।
61-वह पूछता है मुझसे क्यों उसको चाहती हूँ
कोई उससे भी पूछे क्या चाहत पे जोर है?
62-वह कसक बनके अब रहता है इस दिल में
अपना न हुआ और कहीं गया भी नहीं।