Tuesday, 20 September 2011

भर्तृहरि नियति


लगातार सूर्य के चक्कर काटती
धरती सोचा है कभी
सीलन भरे अँधेरे में गुमनाम
तुम्हें धारण करता है कोई
हजार सिर-माथे पर
ढोता है तुम्हारी ममता का अतिरिक्त भार
निमिष मात्र की जिसकी विचलन
खतरा है तुम्हारे अस्तित्व के लिए
उसके स्पर्शों की सुरक्षा में हरी-भरी तुम
क्यों नहीं समझती उसका दुःख ?
सोचो धरती
किसका प्रेम है सच्चा
तुम्हारा
या शेषनाग का
प्रेम की यह कैसी भर्तृहरि नियति है
कि जिसे चाहो
वही चाहता है
दूसरे को |

No comments:

Post a Comment