Tuesday, 13 March 2012

हरी मटर

 
प्रौढ़ हो गयी है
हरी मटर
जिंदगी की चैत में
पीला पड़ रहा है रंग
ना पहले-सी कोमलता
ना लचक
कड़ी हो रही है जिल्द
जड़ें,लतरें,टहनियाँ,पत्तियाँ
सब सूख रही हैं
देख रही है मटर
कल तक जो पौधे
लिपटाए रहते थे उसे
झटक रहे हैं दामन
यहाँ तक कि मेड़ों ने भी
तोड़ लिया है नाता
जो अपनी पीठ पर
ममता से चढने देती थीं
वे सब तो पराये हैं  
उसके अपने ..छिलके
जिनकी सुरक्षा में उम्र गुजारी
दिखा रहे हैं उसे बाहर का रास्ता
सखी मिट्टी की गोद में
लोट-लोट कर रो रही है मटर
मिट्टी समझाती है उसे
-पगली क्यों हो रही यूँ हलकान 
सूखने पर भी नहीं खत्म होगा
तुम्हारा मान-सम्मान
रस भले ना रहे तुममें
बचा रहेगा रूप और स्वाद
भींगकर घुघनी-छोले
भूनकर चबैना-सत्तू
दलकर दाल का रूप लोगी तुम
यहाँ तक कि तुम्हीं से होगी
नई हरी मटरों की फसल तैयार|

No comments:

Post a Comment