Thursday, 9 August 2012

नदी हूँ

उठती है कोई औरत 
उठती हूँ मैं 
गिरती है कोई औरत 
गिरती हूँ मैं 
नदी हूँ 
और दुनिया की सारी औरतें मेरी धाराएँ
पल-भर ना लगे दुनिया बदलने में 
सारी धाराएँ यदि एक हो जाएँ
वे हममें ईर्ष्या के बीज बोते हैं लड़ाते हैं 
सेंक सकें स्वार्थ की रोटियाँ 

और कह सकें ठोंककर ताल -
'औरत ही होती है औरत की सबसे बड़ी शत्रु '
ऐसा कहने में वे सफल हो जाते हैं
क्योंकि औरत के खिलाफ
औरत के इस्तेमाल की कला जानते हैं वे
कि औरत की डोर उनके हाथ में है
जिस पर नाचेगी ही वह
अपने हर रूप में
वे जानते हैं औरत के उस प्रेम को
जो उनके लिए है
और जो कुछ भी करा सकता है उससे
माँ की कोख में ही समझ गयी थी मैं
औरत के भोले प्रेम
और उनकी सालिशों को
चुप-चुप या कि मुखर
औरत की तकलीफ से छटपटाती रहती हूँ मैं
क्योंकि मैं नदी हूँ
और दुनिया की सारी औरतें
मेरी धाराएँ |

No comments:

Post a Comment